Trending

Post Top Ad

Your Ad Spot

Saturday, April 13, 2019

Mahavir Jayanti Wishes In Hindi



mahavir jayanti wishes in hindi




जैन समुदाय का एक प्रमुख त्योहार महावीर जयंती इस साल 7 अप्रैल यानि बुधवार को मनाया जाएगा। जैन धर्म में 24 वें और अंतिम तीर्थंकर महावीर की जयंती को चिह्नित करने के लिए दिन मनाया जाता है। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, यह अवसर चैत्र महीने के 23 वें दिन पड़ता है जो मार्च या अप्रैल के महीनों के बीच स्थित होता है। जैन पौराणिक कथाओं के अनुसार, महावीर ने अपने पिछले जीवन में तीर्थंकर बनने के लिए सभी आवश्यक गुणों का अधिग्रहण किया था। महावीर वह व्यक्ति हैं, जो अहिंसा में विश्वास करते हैं, उनका यह भी मानना था कि सबसे पुण्यमय जीवन अभी भी बैठे हुए और उपवास के रूप में व्यतीत होता है, क्योंकि तब एक आदमी कीड़ों को निगलने या छेड़ने से भी, अनजाने में जीवन को घायल करने का जोखिम नहीं उठाता है।



ये मैसेज आप आने करीबी दोस्तों और रिस्तेदारो से फेसबुक और व्हाट्सप्प पे शेयर करे




सत्य”, “अहिंसाधर्म हमारा
नवकारहमारी शान है
महावीरजैसा नायक पाया
जैन हमारी पहचान है
महावीर जयंती की शुभकामनाएं




महावीर जिनका नाम है
पलिताना जिनका धाम है
अहिंषा जिनका नारा है
ऐसे त्रिशला नंदन को लाख
प्रणाम हमारी है


mahavir jayanti wishes in hindi



सत्य” ”अहिंसाधर्म हमारा,
नवकारहमारी शान है,
महावीरजैसा नायक पाया….
जैन हमारी पहचान है.
जय महावीर जयंती!





Arihant ki boli
Siddhon ka saar
Acharyon ka path
Sadhuon ka sath
Ahinsa ka prachar
Mubarak ho aapko Mahivar Jaynti ka tyohar



mahavir jayanti wishes in hindi




महावीर जिनका नाम है
पलिताना जिनका धाम है
अहिंषा जिनका नारा है
ऐसे त्रिशला नंदन को लाख
प्रणाम हमारी है



जीव हत्या ना करें, किसी को ठेस न पहुचांयें! अहिंसा ही सबसे महान धर्म है।
सभी जीवों के प्रति सम्मान अहिंसा है।
त्येक आत्मा स्वयं में सर्वज्ञ और आनंदपूर्ण है, आनंद बाहर से नहीं आता।
शांति और आत्म-नियंत्रण अहिंसा है।



महावीर जिनका नाम है
पलिताना जिनका धाम है
अहिंषा जिनका नारा है
ऐसे त्रिशला नंदन को लाख
प्रणाम हमारी है





Tu karta woh hai jo tu chahta hai
Par hota he woh jo me chahta hu
Tu woh kar jo me chahta hu
Fir wo hoga jo tu chahta ha
Happy Mahavir Jayanti.






महावीर जिनका नाम है
पलिताना जिनका धाम है
अहिंषा जिनका नारा है
ऐसे त्रिशला नंदन को लाख
प्रणाम हमारी है




महावीर जिनका नाम है
पलिताना जिनका धाम है
अहिंषा जिनका नारा है
ऐसे त्रिशला नंदन को लाख
प्रणाम हमारी है

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad

Your Ad Spot

Pages